Screen Reader Access   
 
Search for   :     
 

प्राचार्य संदेश

 

मैने केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक 1, वायु सेना, सूरतगढ़ में  प्राचार्य दायित्त्व 02.11.2017 को ग्रहण किया । मुझे इस विद्यालय के सभी विद्यार्थियों, अभिभावकों व शिक्षकों का अभिनन्दन करते हुए अतीव हर्ष का अनुभव हो रहा है ।

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि केन्द्रीय विद्यालय संगठन अपनी अकादायिक उत्कृष्टता हेतु समाज में अपना विशिष्ट स्थान रखता हैं, अत: इस संस्थान कि महान परम्पराओं व मापदंडों को बनाये रखने हेतु हमें अपने समर्पण, संकल्प शक्ति एवं सम्पूर्ण ऊर्जा से कार्य करना होगा ।

मैं सभी शिक्षकों का आह्वान  करना चाहूंगा कि वे विद्यार्थी के मन मस्तिष्क को आलोकित करने का सम्पूर्ण प्रयास करे ताकि विद्यार्थी केवल सूचना ग्रहण करने के स्थान पर अपने ज्ञान का निर्माण स्वयं करना सीख सकें तथा जीवन में समायोजन की कला सीख सकें ।

मैं विद्यार्थियों को बताना चाहूंगा कि जीवन एक बाधा दौड़ की तरह हैं अत: जीवन में सफल होने के लिए स्वयं की क्षमताओं में मजबूत विश्वास की आवश्यकता हैं ताकि आप अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकें व जीवन की सही राह का अनुसरण कर सकें । इस हेतु कार्य के प्रति समर्पित, निष्ठावान एवं विपरीत परिस्थितियों का सामना करने हेतु जीवन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण पैदा करने की आवश्यकता हैं । मैं आह्वान करना चाहूँगा कि आप बौद्धिक समाज के सक्रिय सदस्य बने तथा सभी जीवन कौशलों एवं जीवन मूल्यों को ग्रहण करते हुए इस महान राष्ट्र के सुयोग्य नागरिक बने ।

प्रिय अभिभावक गण, घर वह स्थान हैं जहां स्नेह, करुणा, सहनशक्ति व सदभाव जैसे गुण पैदा होते हैं , अत: अपने बच्चों को प्यार, दुलार व गुणात्मक समय देकर उनके समग्र व्यक्तिव निर्माण को सुनिश्चित करें । मैं आप सभी से सदैव सम्पूर्ण सहयोग व मार्गदर्शन की अपेक्षा करता हूँ ताकि बच्चों को उपयुक्त शिक्षा दी जा सकें । आइयें, हम सब मिलकर ईश्वर की इस अनुपम भेट अर्थात बच्चों के विकास में अपना महत्वपूर्ण योगदान देवें ताकि हम सब को सच्ची बुद्धिमता प्राप्त हो सकें ।

  

प्राचार्य

के वि क्र॰ 1, वायु सेना, सूरतगढ़

Welcome Visitor No. 
Visitor Counters
सर्वाधिकार सुरक्षित के.वी. नं 1 ए फ स सूरतगढ Powered by : Compusys e Solutions